Farmers Demand: नए किसान आंदोलन में किसानों की क्या मांगे है? जाने पूरी जानकारी

0
31

Farmers Demand: पिछले कुछ दिनों से पंजाब और हरियाणा के किसानों ने किसान आंदोलन 2.0 शुरू किया हुआ है। जिसके चलते किसानों ने दिल्ली की तरफ हल्ला बोल दिया है और Sambhu Border पर पुलिस और किसानों के बीच में घमासान मच गया है। ऐसे में पुलिस पूरी तरीके से किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकना चाहती है। जिसके लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया है।

जिसके चलते किसानों और पुलिसों के बीच घमासान और भी तेज हो गया है। पुलिस ने बहुत से आंदोलनकारीयों को अपनी हिरासत में भी लिया है।
ऐसे में देश की जनता के यह सवाल है कि आखिरकार अब की बार यह जो नया किसान आंदोलन शुरू हुआ है। इसमें किसानों की क्या-क्या मांगे हैं?
जिनमें से किन मांगों को सरकार मानने के लिए तैयार हो गई है।

आज के इस विस्तृत आर्टिकल में आपको उन सभी सवालों के जवाब मिलेंगे, जो आप इस नए किसान आंदोलन के बारे में जानना चाहते हैं।

Farmers Demand: नए किसान आंदोलन में किसानों की क्या मांगे है? जाने पूरी जानकारी

किसानो की केंद्र सरकार से प्रमुख मांगे क्या है?

वैसे तो किसानों ने केंद्र सरकार से बहुत सी मांगों को लेकर बात की है, लेकिन इनमें से कुछ प्रमुख मांगे किसान बार-बार उठा रहे हैं और उनमें से कुछ मांगों के लिए केंद्र सरकार ने सहमति भी जताई है। आईए जानते हैं वह प्रमुख मांगे कौन सी है,जिसके चलते किसानों ने यह किसान आंदोलन शुरू किया है।

1. न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) :

किसानो की प्रमुख मांगों में से सबसे पहली मांग है MSP, यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य, किसानों का कहना है कि सरकार जल्द से जल्द न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी MSP पर एक बढ़िया सा कानून बनाएं।

2. साल 2021-22 की मांगों को पूरा करें :

किसानो की दूसरी सबसे बड़ी मांग है कि किसानों ने जो 2021-22 में जो आंदोलन किया था। जिसमें सरकार ने कुछ मांगों को स्वीकार करते हुए आंदोलन को समाप्त करवाया था। उन सभी मांगों को जिन पर सरकार की सहमति बन गई थी। उन मांगों को पूरी किया जाए

3. मुकदमे वापस लें :

किसानों का कहना है कि साल 2021-22 के आंदोलन में सरकार ने जितने भी किसानों पर मुकदमा दर्ज किया था। उन सभी मुकदमों को सरकार वापस लें।

4. मुआवजा और सरकारी नौकरी :

इस बार के किसान आंदोलन में किसानों की सरकार से यह भी प्रमुख मांग है कि पिछले किसान आंदोलन में जितने भी किसानों की मौत हो गई थी। उनके परिवार को सरकार की तरफ से अच्छा खासा मुआवजा दिया जाए और परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

5. लखीमपुर खीरी हिंसा मुआवजा और सरकारी नौकरी :

इस किसान आंदोलन में किसान नेताओं की यह भी प्रमुख मांग है कि लखीमपुर खीरी हिंसा में जितने भी पीड़ित लोग हैं। उनको मुआवजा दिया जाए और उनके किसी एक परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

6. कर्ज माफी :

इस बार के आंदोलन में किसानों की बहुत सी प्रमुख मांगे हैं, जिनमें से कर्ज माफी भी एक मुख्य मांग है। किसान नेताओं का कहना है कि किसानों ने जितने भी सरकारी और गैर सरकारी कर्ज ले रखे हैं। उनका पूर्ण रूप से माफ करें।

7. पेंशन :

इस बार के किसान आंदोलन में किसानों की प्रमुख मांगों में से एक पेंशन भी है। किसानों का कहना है कि जिन भी किसानों की 60 साल से ज्यादा आयु हो चुकी है। उन सभी को सरकार की द्वारा ₹10000 पेंशन दी जाए। यह भी एक प्रमुख मांगों में से एक है।

8. किसान स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश :

इस किसान आंदोलन में किसान नेताओं का कहना है कि किसान स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश को जल्द से जल्द लागू किया जाए।

9. 700 रूपये दिन की मजदूरी:

किसानों की यह भी मांग है कि सरकार मनरेगा रोजगार को 200 दिनों तक की अवधि प्रदान करें और साथ में मनरेगा की प्रतिदिन की मजदूरी 700 रूपये करें।

10. अन्य मांगे :

इसके अलावा भी छोटी-मोटी और भी बहुत सी ऐसी मांगी है। जो किसान सरकारों से मनवाना चाहते हैं। इनमें से कुछ मांगों को सरकार ने स्वीकार भी किया है लेकिन कुछ मांगों पर अभी भी शांति नहीं बनी है। आने वाले दिनों में इसको लेकर कुछ भी अपडेट आता है। तो आपको हमारी वेबसाइट पर पूरी जानकारी मिल जाएगी

निष्कर्ष – नए किसान आंदोलन में किसानों की क्या मांगे है?

तो आज के इस आर्टिकल में पूरी जानकारी के साथ बताया गया है कि किसानों की इस नए किसान आंदोलन में क्या-क्या मांगे हैं। इनमें से कुछ प्रमुख मांगे हमने आपको बताई है। अब आप लोगों को किसान आंदोलन के बारे में पता चल गया होगा कि आखिरकार इस बार किसान, आंदोलन कर क्यों रहे हैं?

ऐसे में अभी आपके मन में किसान आंदोलन से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है। तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। आपके हर एक सवालों के जवाब देने की पूरी पूरी कोशिश की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here