मालदीव्स की बड़ी मुश्किलें?जानें अब तक की पूरी अपडेट? Maldives Bharat News Update

0
47

Maldives Bharat News Update जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी लक्ष्यदीप जाकर आए हैं। तब से मालदीव्स और भारत के रिश्ते को लेकर बहुत सारी बातें सामने आ रही है। पहले तो मालदीव्स के कुछ नेताओं ने भारत को लेकर अपमानजनक टिप्पणी की थीm उसके बाद से ही भारत के लोगों ने मालदीव्स का बायकाट करना शुरू कर दिया था।

ऐसे में एक्पर्टोन ने पहले ही यह चेतावनी दे दी थी कि अगर मालदीव्स अपने रिश्ते भारत के साथ खराब करता है। तो यह उसके लिए ही घातक सिद्ध होगा। अब मालदीव्स को लेकर एक बहुत बड़ी खबर आ रही है, जिसमें बताया जा रहा है कि मालदीव्स अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए पाकिस्तान और बांग्लादेश से मदद मांग रहा है।

ऐसे में सवाल निकाल कर आता है कि क्या मालदीव्स दिवालिया हो गया है। जो बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशों से मालदीव्स को मदद मांगनी पड़ रही है। बीते कुछ दिनों में मालदीव्स के राष्ट्रपति को भी मालदीव्स की जनता ने खड़ी-कोटी सुनना शुरू कर दिया है। जिसके चलते मालदीव्स में एक अलग ही माहौल बन गया है।

आज हम आपको पूरी डिटेल में बताएंगे कि आखिरकार मालदीव्स में यह माहौल बाद से बेहतर किस तरीके से बनते जा रहे हैं।

मालदीव्स की बड़ी मुश्किलें?जानें अब तक की पूरी अपडेट? Maldives Bharat News Update

क्या है मालदीव्स लक्षद्वीप और भारत का विवाद? :

बीते कुछ दिनों पहले भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी लक्षद्वीप पर छुट्टियां मनाने के लिए गए थे। वहीं से उन्होंने अपने एक हैंडल पर लक्षद्वीप पर क्लिक की गई कुछ फोटो में शेयर की। जिसके बाद में ही लोगों ने उनकी तारीफ करना शुरू कर दिया। लेकिन ऐसे में मालदीव्स के कुछ राजनेताओं द्वारा उन फोटो को लेकर भारत के लिए अपमानजनक टिप्पणी की गई।

जिसके बाद में भारत के बड़े-बड़े लोगों द्वारा लक्षद्वीप को प्रमोट किया गया और साथ में मालदीव्स को भारी संख्या में बाय कोट करने का ट्रेंड चला दिया गया। खास करके मालदीव्स के उन्हें राजनेताओं के द्वारा भारत के प्रति जताई गई अपमानजनक टिप्पणियां ही मालदीव्स और भारत के विवाद का कारण बनी।

भारत के लोगों द्वारा मालदीव्स के बाय कोट करने का क्या असर हुआ? :
भारत के लोगों ने जब मालदीव्स का बाय कोट करना शुरू किया। तब कुछ लोगों ने कहा कि इससे कुछ नहीं होने वाला है,लेकिन अब रिपोर्ट सामने आई है कि इससे बहुत कुछ हो गया है।

आपको बताना चाहेंगे कि पिछले साल तक मालदीव्स में टूरिस्ट जाने में भारत के लोगों का प्रथम स्थान था,लेकिन मालदीव्स के बाय कोट ट्रेंड करने के बाद, अब यह स्थान पांचवें नंबर पर आ गया है। मतलब कि पिछले साल तक सबसे ज्यादा संख्या में भारत से ही मालदीव्स के लिए टूरिज्म के लिए लोग जाते थे।

लेकिन जब से मालदीव्स के बाय कोट का ट्रेंड चला है, तब से मालदीव्स जाने के लिए भारतीय लोगों की मनशाही बदल गई है। ऐसे में मालदीव्स में मालदीव्स को बहुत बड़ा आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। अब यह कहना भी अतिशयोक्ति नहीं होगी कि भारत से पंगा लेकर मालदीव्स ने अपने पैरों पर कुल्हाड़ी नहीं मारी है बल्कि बहुत ही बड़ी और धारदार खिड़की पर अपने पैर मार दिए हैं, क्योंकि मालदीव्स की ज्यादातर कमाई टूरिज्म से ही होती है और टूरिज्म पर ही लोग नहीं जा रहे हैं। तो उनकी आर्थिक हालत खराब होनी ही है।

मालदीव्स में आर्थिक संकट के संकेत क्या है? :

अब यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि मालदीव्स में आर्थिक संकट आने वाला है, क्योंकि मालदीव्स की जैसी स्थिति वर्तमान समय में बनी हुई है। उससे कोई भी कह सकता है कि मालदीव्स में जल्द ही आर्थिक संकट आ जाएगा। अब आपके मन में सवाल होगा कि मालदीव्स में ऐसे कौन से संकेत नजर आ रहे हैं। जिससे विशेषज्ञों का मानना है कि मालदीव्स में जल्द ही आर्थिक संकट के बादल मंडराने वाले हैं।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि मालदीव्स में कमाई का सबसे बड़ा जल दिया है। बाहर से आने वाले टूरिस्ट ऐसे में भारत के साथ हुए मालदीव्स के विवाद के बाद भारत के लोगों द्वारा मालदीव्स के बाय कोट का ट्रेंड चलाया गया। जिसके कारण जो भारत सबसे ज्यादा संख्या में मालदीव्स के लिए टूरिस्ट भेजता था। अब वह पांच स्थान पर आ गया है। जिससे उसकी जीडीपी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है।

साथ ही साथ मालदीव्स में जितने भी विकास के बड़े-बड़े काम चल रहे थे। वह सारे काम थप्पड़ गए हैं क्योंकि बिना पैसे के काम कैसे किया जा सकता है? उन सभी कामों के बंद होने से विशेषज्ञों ने अंदाजा लगाया है कि मालदीव्स में आर्थिक तंगी चल रही है और आने वाला समय और भी खराब होने वाला है।

मालदीव्स अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए आए दिन कर्ज पर कर्ज लिए जा रहा है, लेकिन कर्ज लेना आसान है उतरना उतना भी मुश्किल ऐसे में उसे कर्ज को किस तरीके से चुकाया जाएगा। यह मालदीव्स को खुद को ही नहीं पता है। मालदीव्स सरकार का यह कहना है कि जो पीछे की सरकार है उनकी गलत नीतियों के कारण ही मालदीव्स आज ऐसी स्थिति में आ गया है लेकिन इसके पीछे सच्चाई क्या है? यह किसी से छुपी नहीं है।

निष्कर्ष – मालदीव्स की बड़ी मुश्किलें?जानें अब तक की पूरी अपडेट? Maldives Bharat News Update

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि मालदीव्स ने भारत से बिना मतलब की दुश्मनी लेकर अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारकर अपने आप को लंगड़ा कर लिया है। क्योंकि भारत से दोस्ती में ही उसकी भलाई थी। भारत ने मालदीव्स के लिए बहुत कुछ किया है। उसकी विकट परिस्थितियों में भारत ही वह था, जो उसके साथ खड़ा रहता था।

लेकिन भारत के प्रधानमंत्री के लिए उनके मंत्रियों के द्वारा कहे गए काटो वचन उनके लिए गले में अटकी हुई हड्डी साबित हो रहे हैं। जिसके चलते उनकी आर्थिक स्थिति भी कमजोर होती जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here